हॉर्स ग्राम करी /Kulthi / Hurulikalu Saaru Recipe

हॉर्स ग्राम करी
  • Prep Time
    20
  • Cook Time
    30
  • Serving
    4
  • View
    216
राजमा,मसूर, मूंग,उरद  व अरहर जैसी दालों के अलावा कुछ अन्य दालें भी खाई जाती हैं। कुलथी भी ऐसी ही दाल है इसे अंग्रेजी में हॉर्स ग्राम ,कन्नड़ में इसे Hurulikalu कहा जाता है। इस दाल का वैज्ञानिक नाम मैक्रोटिलोमा यूनिफ्लोरम (Macrotyloma uniflorum) है।
इसे दक्षिण भारत की महत्वपूर्ण फसल माना गया है। इसका रंग गहरा भूरा होता है और देखने में मसूर की दाल की तरह लगती है। इस दाल को कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, ओडिशा व तमिलनाडु के अलावा छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, बिहार, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में भी उगाया जाता है। यह औषधि के रूप में फायदेमंद मानी जाती है।
कुल्थी से होने वाले फायदे :-
  • कुलथी दाल का सबसे बड़ा फायदा पथरी यानी किडनी स्टोन के लिए माना जाता है। पथरी के लिए कुलथी का इस्तेमाल लंबे समय से किया जा रहा है।
  • डायबिटीज से निपटने के लिए कुलथी के फायदे देखे जा सकते हैं। यह पोस्टपेंडिअल ग्लाइसेमिक (भोजन के बाद ब्लड ग्लूकोज के स्तर पर कार्बोहाइड्रेट का प्रभाव) और रक्त में इंसुलिन की अधिकता (insulinaemic response) को कम कर मधुमेह के मरीजों को फायदा पहुंचा सकती है
  • इसके अलावा, कुलथी की दाल फाइबर जैसे पोषक तत्वों से भी समृद्ध होती है, जो एलडीएल यानी खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में अहम भूमिका निभा सकती है
  • कब्ज जैसी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए कुलथी का सेवन किया जा सकता है। जैसा कि हमने पहले बताया कि कुलथी की दाल फाइबर से समृद्ध होती है, जो कब्ज से निजात दिलाने का काम कर सकती है।
दक्षिण भारत के कुछ प्रमुख व्यंजनों जैसे रसम आदि बनाने के लिए इसे प्रयोग में लाया जाता है। आज मैं एक South Indian recipe  हॉर्स ग्राम करी बनाना बताने जा रही हु। इसके लिए कुलथी को एक दिन पहले ही भिगो दे।  जब कुलथी फूल जाये तो उसे पानी में से निकाल कर एक कपडे में रखकर पोटली बना दे। किसी गरम जगह में रख दे और जब sprouting हो जाये तब उसे इस्तेमाल करे। हॉर्स ग्राम करी बनाने के लिए आवश्यक सामग्री इस प्रकार है :-

Ingredients

ग्रेवी बनाने के लिए

मसाला बनाने के लिए

    Directions

    Step 1

    सबसे पहले हॉर्स ग्राम को ६-७ घंटे के लिए पानी में भिगोकर रख देते है

    Step 2

    जब हॉर्स ग्राम फूल जाये तो उसे पानी से निकाल कर एक कॉटन के कपडे में बांध कर एक दिन के लिए रख देते है बीच बीच में कपडे के ऊपर पानी छिड़कते रहते है जिससे हॉर्स ग्राम की स्प्रॉउटिंग हो जाती है

    Step 3

    कुलथी को कपडे की पोटली में से निकाल कर पानी से १-२ बार धो ले फिर कुकर में डाल दे ,पानी डाले ,और 4-5 सीटी आने तक पकाये।

    Step 4

    अब नारियल ,प्याज ,अदरक ,लहसुन, हरी मिर्च , भुना चना , दालचीनी, लौंग ,धनिया,हल्दी और गरम मसाला पाउडर को मिक्सी में डालकर ग्राइंड करके fine paste बना ले।

    Step 5

    एक कड़ाही ले उसमे तेल डालकर गर्म करे। जब तेल गरम हो जाये तो उसमे मेथी डाले जब मेथी brown कलर हो जाये तब सरसो डाले।

    Step 6

    सरसो जब चटकने लगे तो कड़ीपत्ता डाले। जब कड़ी पत्ता fry हो जाये तब पिसा हुआ मसाला डाले

    Step 7

    साथ में कटा हुआ आलू और बैगन डाले। मसाला ,आलू और बैगन को १५ मिनट तक तेज आंच में भूने फिर माध्यम से धीमी आंच पर मसाले तब तक भूने जब तक की मसाले का पानी न सूख जाये और मसाले अच्छी तरह भून जाये , आलू और बैगन भी पक जाये। अब टमाटर का paste बना कर डाले और टमाटर का raw smell जाने तक भूने।

    Step 8

    अब कुकर में पकाई हुए कुलथी दाल दे पानी डाले नमक डाले और प्लेट से ढककर १० मिनट तेज आंच पर पकाये।

    Step 9

    १० मिनट बाद दक्कन हटा दे इमली का pulp और सांभर पाउडर डाले और ५ मिनट तक फिर से ढक्कन से ढककर धीमी आंच पर पकाये।

    Step 10
    हॉर्स ग्राम करी

    ५ मिनट के बाद दक्कन खोलकर ५ मिनट तक और पकाये , लीजिये तैयार है Kulthi/Hurulikalu Saaru। इसको चपाती,फुल्का, रागी बॉल्स और rice के साथ खा सकते है खाने में बहुत ही taste और healthy भी होता है बच्चे और बड़े सभी लोग पसंद करेंगे।

    Conclusion

    टिप्स :- Kulthi/Hurulikalu बहुत ही hard होता है इसलिए इसकी सब्जी हमेशा उबाल के बनाये और अच्छी तरह 4-5 सीटी उबालें। बैगन और आलू अगर चाहे तो अलग से fry करके भी डाल सकते है । सब्जी को थोड़ा सा गाढ़ा ही बनाये। टमाटर आप कम भी कर सकते है क्योकि आप इमली का use कर रहे है।

    You May Also Like

    Leave a Review

    Your email address will not be published.