ज्यादा चाय पीते है तो हो जाइये सावधान, चाय से होने वाले साइड इफेक्ट्स

अगर आप चाय के शौक़ीन है और दिन की शुरुआत चाय से करते है तो हो जाइये सावधान। हद से ज्यादा चाय पीना आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। सीमित मात्रा में चाय का सेवन करने से यह आपके थकान, सिर दर्द को दूर कर ताजगी से भर देती है। लेकिन अधिक मात्रा में चाय का सेवन आपको कई गंभीर बीमारियों के चपेट में भी ले सकता है। बहुत से लोगो को सुबह आंख खुलते ही बेड टी चाहिए एक कप चाय में २० से ६० मिलीग्राम कैफीन होता है। कैफीन हमारे स्वस्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है इसलिए अगर आप चाय पीने का शौक रखते है तो कुछ खास बातो का ध्यान जरूर रखे।

आइये जानते है की अधिक मात्रा में चाय पीने से हमारे स्वस्थ्य पर क्या असर पड़ता है क्योंकि चाय का अधिक सेवन इन सभी समस्याओं का कारण बन सकता है।

यह भी पढ़ें :- पैशन फ्रूट (कृष्णा फल) का जूस 

एक दिन में कितनी चाय पिए :- बहुत से लोग एक दिन की लगभग ८-१० चाय पी जाते है। यहाँ तक की चाय बार बार बनाना न पड़े इसलिए एक बार में ज्यादा चाय बना कर रख लेते है, और जब मन किया गरम करके पीते है इस तरह से रखी हुए चाय गरम करके पीना बहुत ही नुकसान दायक होता है। चाय को बार-बार गर्म करने से उसमें हानिकारक केमिकल रिलिज हो जाते हैं। ज्यादा उबली हुई चाय पीने से भी चाय में निकोटिनमाइड की मात्रा बढ़ जाती है, जो कि आपकी है स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है, जो आपकी सेहत को हानि पहुंचा सकते हैं। इसलिए एक दिन में सीमित मात्रा में १-२ कप चाय का सेवन करें।

सुबह की चाय कितनी अच्छी :- सुबह सुबह खाली पेट चाय पीने से एसिडिटी की समस्या हो सकती है। इसलिए सुबह चाय पीने से पहले गर्म पानी पीजिये फिर चाय पीजिये वैसे भी सुबह उठ कर गरम पानी पीना सेहत के लिए अच्छा होता है हो सके तो नाश्ता करने के बाद चाय पिए इससे एसिडिटी की समस्या से रहत मिलेगी।

यह भी पढ़ें :- मैंगो मिल्क शेक

पेट संबंधी समस्याएं :- अधिक मात्रा में चाय का सेवन करने से पेट संबंधी समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं। यह आपके पाचनतंत्र को असंतुलित करता है तथा ऐसिडिटी, कब्ज और पेट में जलन जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। इसलिए दिन में दो से तीन बार से ज्यादा चाय का सेवन ना करें।

सीने में जलन :- यदि आपको एक दिन में 4 से 5 बार या फिर उससे भी ज्यादा चाय पीने की आदत है तो आपको सीने में जलन की समस्या हो सकती है। चाय ज्यादा पीने से एसिड रिफ्लक्स की परेशानी हो सकती है। ये आंत में अम्ल के उत्पादन को बढ़ा देती है। जो सीने में जलन का कारण है।

अनिद्रा और हृदय रोग का कारण हो सकती है चाय :- चाय कुछ हद तक हृदय रोग में सहायक हो सकती है। चाय में मौजूद कैफीन के कारण इसका अधिक सेवन ह्रदय रोग और अनिद्रा का कारण बन सकता है ज्यादा चाय पीने से नींद भी उड़ जाती है। नींद पूरी न होने के कारण कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

चिंता और तनाव का कारण बन सकती है चाय:- चाय में कैफीन होता है और कैफीन के अधिक सेवन से मस्तिष्क संबंधी रोगों का भी सामना करना पड़ सकता है। अत्यधिक मात्रा में चाय का सेवन चिंता, तनाव और बेचैनी को बढ़ा सकती है।

यह भी पढ़ें :- ठंडा ठंडा बेल का शरबत

आयरन का अवशोषण होता है कम : चाय में टेनिन नाम का यौगिक पाया जाता है। यह शरीर में आयरन को अवशोषित करने की क्षमता को कम कर सकता है। यही कारण है कि भोजन करने के तुरंत बाद चाय पीने से मना किया जाता है।

गर्भावस्था में चाय :- गर्भावस्था के दौरान चाय महिलाओं के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है। आपको बता दें चाय में अधिक मात्रा में कैफीन पाया जाता है। गर्भ में पल रहे बच्चे को कैफीन अच्छे से हजम करने और मेटाबोलाइज करने में परेशानी होती है। जिससे गर्भपात का खतरा बन सकता है। इसलिए गर्भावस्था के दौरान चाय का सेवन करने से बचें। इस दौरान यदि आप चाय पीना चाहते हैं तो डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

यह भी पढ़ें :- कोकोनट मिल्क शेक 

एंटीबायोटिक दवाईयों के असर को करता है कम :- चाय एंटीबायोटिक दवाईयों के असर को कम करता है। चाय कीमोथेरेपी, क्लोजापाइन दवाओं के असर को कम करता है। यदि आप एंटीबायोटिक दवाईयां खा रहे हैं तो आपको चाय का सेवन से बचना चाहिए।

आशा करती हु की आप इस लेख के जरिये ज्यादा चाय पीने से होने वाले नुकसान के बारे में जान गए होंगे। चाय का उपयोग करते समय इस बात का ध्यान रखें कि इसमें कैफीन मौजूद होता है, जो लेख में बताए गए चाय के दुष्प्रभावों का कारण बन सकता है। इसलिए चाय का सेवन एक सीमा तक सही रहता है।इस लेख को पूरा पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.