अदरक से होने वाले फायदे , उपयोग और नुकसान (Benefits, Uses and Side effects of Ginger)

हमारे दिन की शुरुआत चाय से होती है, चाय वो भी अदरक वाली हो तो क्या कहने। सर्दी जुखाम में अदरक वाली चाय पसंद की जाती है सब्जी आदि बनाने में भी अदरक का प्रयोग किया जाता है। कहने का मतलब है की हम हर रोज किसी न किसी तरह अदरक का प्रयोग करते है। अदरक एक जड़ी बूटी की तरह से इस्तेमाल की जाती है, जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक तो होती ही है, साथ ही खाने का टेस्ट भी बढाती है। आयुर्वेद में भी अदरक के बहुत से गुड़ बताये गए है, जो हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होते है।आइये इस लेख में आपको अदरक से होने वाले फायदे , उपयोग और नुकसान बारे में जानते है।

अदरक क्या है?

अदरक का वानस्पतिक नाम: जिंजिबर ऑफ़िसिनेल / Zingiber officinale),है यह एक भूमिगत रूपान्तरित तना है। यह मिट्टी के अन्दर क्षैतिज बढ़ता है। जो जनजीबेरेसी(Zingiberace) फॅमिली से सम्बंध रखता है। जनजीबेरेसी फॅमिली को ”मसाला फॅमिली ” भी कहा जाता है। जिसमें अदरक के अलावा अन्य मसाले फसलें जैसे-हल्दी,इलायची,बड़ी इलायची आदि मसाला फसलें शामिल हैं।
अदरक मुख्य रूप से उष्ण क्षेत्र की फसल है। इसकी उत्पत्ति दक्षिणी और पूर्व एशिया में भारत या चीन में हुई। भारत में अदरक की खेती मुख्या रूप से केरल, उडीसा, आसाम, उत्तरप्रदेश, पश्चिमीे बंगाल, आंध्रप्रदेश, हिमाचल प्रदेश, मध्यप्रदेश तथा उत्तरॉचल प्रदेशों में मुख्य व्यवसायिक फसल के रूप में की जाती है। देश में अदरक उत्पादन में केरल प्रथम स्थान पर हैं ।

अदरक से होने वाले फायदे :- आइये अदरक से होने वाले फायदों के बारे में जानते है।

1. पेट के लिए फायदेमंद :- अदरक कब्ज, पेट दर्द, पेट की ऐंठन, मरोड़ व गैस जैसी कई समस्याओं से राहत दिलाने में सहायक साबित हो सकता है। वहीं, यह अपच की समस्या को ठीक करने में भी मददगार हो सकता है। डिस्पेप्सिया के उपचार, बच्चों में पेट दर्द से राहत और बैक्टीरिया से होने वाली दस्त के उपचार में अक्सर अदरक लेने की सलाह दी जाती है।

2. माइग्रेन के लिए फायदेमंद :- एक अध्ययन में पाया गया कि माइग्रेन के लक्षणों के उपचार में अदरक पाउडर माइग्रेन की आम दवा सुमाट्रिप्टन जितना ही असरदार है। माइग्रेन का हमला शुरू होते ही अदरक की चाय पीने से प्रोस्टेग्लैंडिन दब जाते हैं और असहनीय दर्द में राहत मिलती है। इससे माइग्रेन से जुड़ी उबकाई और चक्कर की समस्याएं भी नहीं होतीं।

3. कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करे :- अदरक में पाए जाने वाले तत्व कोलेस्ट्रॉल को कम करने, ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने, रक्त प्रवाह में सुधार लाने और अवरुद्ध आर्टरियों तथा रक्त के थक्कों से बचाव करने का काम करते हैं। ये सारी चीजें हृदयाघात (हार्ट अटैक) और स्ट्रोक के जोखिम को कम करती हैं और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है

4. आर्थराइटिस में मददगार :- अदरक में जिंजरोल नामक एक बहुत असरदार पदार्थ होता है जो जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द को कम करता है। एक अध्ययन के मुताबिक, अदरक गंभीर और स्थायी इंफ्लामेटरी रोगों के लिए एक असरकारी उपचार है।ऑस्टियोआर्थराइटिस से पीड़ित बहुत से मरीजों ने नियमित तौर पर अदरक के सेवन से दर्द कम होने और बेहतर गतिशीलता का अनुभव किया।

5. डायबिटीज नियंत्रण में सहायक :- अदरक मधुमेह पीड़ित के लिवर, किडनी और केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को सुरक्षित कर सकती है। यह बढ़े हुए ब्लड शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने के साथ ही इन्सुलिन की सक्रियता को बढ़ाने का भी काम कर सकता हैसाथ ही वह इस बीमारी के एक आम दुष्प्रभाव मोतियाबिंद का खतरा भी कम करती है।

6. मासिक धर्म में अदरक के फायदे :- अदरक में दर्दनिवारक और सूजन को कम करने वाले गुण मौजूद होते हैं। यह गुण मांसपेशियों के खिंचाव और तनाव को दूर करने के साथ-साथ मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द से राहत दिलाने में भी सहायक साबित हो सकते हैंअदरक डिस्मेनोरिया (पीड़ादायक मासिक धर्म) से जुड़े दर्द को भी काफी कम करने में मददगार है।

7. दमा के उपचार में असरदायक :- दमा एक स्थायी बीमारी है जिसमें फेफड़ों की ऑक्सीजन वाहिकाओं के स्नायुओं में सूजन आ जाती है और वे विभिन्न पदार्थों के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं, जिससे दौरे पड़ते हैं।दमा से पीड़ित मरीजों के उपचार में इसका प्रयोग आशाजनक रहा है।

8. सर्दी-खांसी में लाभदायक:- अदरक प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है जिससे यह सर्दी-खांसी तथा फ्लू का जाना-माना उपचार है। ऊपरी श्वास मार्ग के संक्रमण में आराम पहुंचाने के कारण यह खांसी, खराब गले और ब्रोंकाइटिस में भी काफी असरकारी होती है। अदरक सर्दी के समय उत्तेजित होने वाले दुखदायी साइनस सहित शरीर के सूक्ष्म संचरण माध्यमों को भी साफ करती है। सर्दी-खांसी और फ्लू में नींबू तथा शहद के साथ अदरक की चाय पीना बहुत लोकप्रिय नुस्खा है

9. अदरक एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट :- अदरक में शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो लिपिड पेरोक्सिडेशन और डीएनए क्षति को रोकती है। एंटीऑक्सीडेंट बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं क्योंकि वे फ्री रेडिकल्स के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करते हैं। इससे उम्र के साथ आने वाली तमाम तरह की बीमारियों जैसे कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, आर्थराइटिस, अल्जाइमर्स और बाकी रोगों से बचाव में मदद मिलती है।

10. बालों के लिए फायदेमंद :- अदरक में एंटीमाइक्रोबियल (सूक्ष्म बैक्टीरिया को नष्ट करने वाला) गुण पाया जाता है। वहीं, विशेषज्ञों के मुताबिक बैक्टीरियल इन्फेक्शन के कारण भी बाल झड़ने की समस्या देखी जा सकती है । ऐसे में अगर कोई बैक्टीरियल इन्फेक्शन के कारण बाल झड़ने की समस्या से परेशान है, तो यह अदरक के गुण मददगार साबित हो सकते हैं।

अदरक का उपयोग :- 1. अदरक का प्रयोग प्रचीन काल से ही मसाले, ताजी सब्जी, सौन्दर्य सामग्री और औषधी के रूप मे चला आ रहा है। अब अदरक का प्रयोग सजावटी पौधों के रूप में भी उपयोग किया जाने लगा है। खुशबू पैदा करने के लिये आचार, चाय के अलावा कई व्यजंनों में अदरक का प्रयोग किया जाता हैं।
2. सब्जी में तड़का लगाने के लिए अदरक का उपयोग किया जा सकता है। जिससे सब्जी स्वादिस्ट बनती है
3. अदरक का अचार बनाकर इसे अपने आहार में शामिल किया जा सकता है। यह स्वादिष्ट भी लगेगा और इससे अदरक के फायदे भी हासिल होंगे।
4. इसके अलावा, अदरक की चाय बनाकर पी सकते हैं।
5. अदरक को लंबा और पतला काट कर, फिर इस पर नमक-मिर्च और अपनी पसंद का मसाला लगाकर धूप में सुखा लें। फिर इसे आप कभी भी खा सकते हैं।
6. सर्दियों में अदरक खाँसी जुकाम आदि में किया जाता हैं। अदरक का सोंठ के रूप में इस्तेमाल किया जाता हैं। अदरक को धूप में सूखा लेने पर सूखा हुआ रूप ही सोंठ कहलाता है

अदरक के नुकसान :- अदरक के इतने फायदों के बाद भी कुछ नुकसान भी है आइये उसके बारे में भी जानते है :-
1. अधिक मात्रा में अदरक का सेवन (6 ग्राम या अधिक) करने से ये नुकसान भी हो सकते हैंः
2. गर्भवती स्त्रियों को 1 ग्राम रोजाना से अधिक नहीं लेना चाहिए।
3. दो साल से कम उम्र के बच्चों को अदरक नहीं दी जानी चाहिए।
4. हृदय संबंधित विकार
5. केन्द्रीय तंत्रिका-तंत्र संबंधित विकार
6. आमाशय विकार
7. उच्च रक्तचाप
8. अदरक का सेवन गर्भावस्था में नहीं करना चाहिए।
9. पित्त दोष के कारण होने वाली पथरी की बीमारी और बच्चों को बुखार होने पर अदरक का इस्तेमाल नहीं कराना चाहिए।

आशा करती हु की आप ये लेख पढ़कर अदरक के औषदीय गुड़ ,उससे होने वाले फायदे , नुकसान के बारे में जान गए होंगे , इस प्रकार आप अदरक के औषधीय गुण का पूरा लाभ ले सकते है अदरक आपके स्वस्थ्य को अच्छा बनाये रखने के लिए फायदेमंद होगा . लेकिन किसी बीमारी के लिए अदरक का सेवन करने या अदरक का उपयोग करने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से जरूर सलाह लें।आपको लेख कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताइये . पूरा लेख पढने के लिए आपका धन्यवाद्.

Leave a Reply

Your email address will not be published.